घर के बरामदे से चोरी बाइक बक्सा थाने के सिपाही के पास मिली,थानाध्यक्ष कर रहे है लीपापोती

    सुजीत कुमार गुप्ता पुत्र हन्नीरीलाल गुप्ता ग्राम वारी पोस्ट बरहता मछलीशहर जौनपुर निवासी ग्राम वारी (बरईपार) थाना मछलीशहर की मोटरसाईकिल यूपी ६२ एयु 8975 चेचीसno. MBLJA05EMF9H16643 ईन्जन no. JA05ECF9H11919 UP62AU8975 दिनाक14-01-2019 की रात  को घर के बरामदे से चोर लॉक तोडकर चुरा ले गए !जिसका मुकदमा थाना मछालिशहर में मुकदमा संख्या 0014भारतीय दंड संहिता १८६० के सेक्शन ३७९ के अंतर्गत दिनाक १५-०१-२०१९ को दर्ज हुआ ! कल दिनांक २४-०७-२०१९ को किसी अनजान ब्यक्ति ने फोन कर के बताया की आपकी गाडी जो चोरी हो गई थी वह बक्सा थाणे के सिपाही पवन डूबे के पास है !सुजीत गुप्ता कुछ सम्मानित लोगो को लेकर थाणे पर पहुचे तो उनकी चोरी गई हुई मोटरसाइकिल सिपाही की बैरक के सामने एनी सिपाहियों की गाडियों के साथ चैनल गेट के अंदर खड़ी मिली !इन लोगो ने उसकी फोटो खील ली ! जब मामले को सिपाही पवन डूबे के संज्ञान में लाया गया तो उसने कहा की १०हजार में खरीदी है ,किससे खरीदी नहीं बताउंगा !


 थानाध्यक्ष ने दोनों पक्षों के बीच समझौता कराने की कोशिश की और अंत में कहा की मुलजिम से बरामद हुई है और वह जेल में है लेकिन बरामदगी जीडी में नहीं दिखा सके ! इस बीच पूरा प्रकरण सम्पादक अरुण सिंह के संज्ञान में आने पर पुलिस अधीक्षक को बताया ! पुलिस अधीक्षक के फोन करके इस बावत पूछताछ करने से थानाध्यक्ष सुजीत गुप्ता एव उनके साथियो से बत्तमीजी करने लगे और बोले जाओ एसपी से ले लो !


 बाद में इन लोगो से गाडी के फोटो स्टेट कागज लेकर बोले दो दिन में गाडी ओउर मुलजिम दोनों को पेश कर दूंगा ! प्रश्न यह उठता है की गाडी जब चोरी की है तो प्सिपाही पवन दुबे ने बिना कागज क्यों खरीदी ?इसका अर्थ यह हुआ की उन्हें पता था की गाडी चोरी की है !तो पवन डूबे पर चोरी का माल खरीदने का मुकदमा दर्ज होना चाहिए और यदि वे यह नहीं सावित कर पाते की गाडी दुसरे से खरीदी तो चोरी का मुकदमा सिपाही पवन दूबे पर चलना चाहिए !


 फिलहाल थानाध्यक्ष ने इस बावत कुछ भी बताने से इनकार कर दिया और बताया की मेरे संज्ञान में कुछ नहीं है ! 


यहा प्रश्न यह भी उठता है की यदि गाडी किसी मुलजिम से बरामद हुई तो जीडी पर दर्ज क्यों नहीं साथ गाडी नम्बर से गाडी मालिक को सूचना क्यों नही दी गई ?जबकि एफ़ाइआर दर्ज है ! सब मिला कर पुलिस की भूमिका संदिग्ध है !खबर लिखे जाने तक सुजीत कुमार इत्यादि को थाणे से भगा दिया गया है और किसी दुसरे पर जबरदस्ती चोरी गई मोतार्सैक्ल लादने तैयारी चल रही है !