गोमती नगर विभूति खंड एसएचओ राजीव द्विवेदी उड़ा रहे एसएसपी कलानिधि नैथानी के आदेशों की धज्जियां

 


*पीड़ित का मुकदमा न लिखकर बैंक से निकाले गए रुपयों को दिलवा रहे मंडी परिषद सचिव संतोष यादव से करा रहे समझौता


 लखनऊ*। कहानी साफ है पढ़ेंगे तो समझ जाएंगे पीड़ित मोहित 4.5 वर्ष से अपने मालिक मंडी परिषद के सचिव संतोष यादव के यहां काम करता था। 3 साल तक उसे वेतन दिया और फिर झांसा दिया कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उसके घरेलू संबंध है वैसे सरकारी नौकरी पर लगवा देंगे फिर उसका 1.5 साल का वेतन रोक लिया।डेढ़ साल से उसे वेतन नहीं दिया। वेतन न देने के कारण सचिव ने उसे फर्जी चोरी के मुकदमे में जेल भेज दिया। जब जेल से लौट कर पीड़ित मोहित जेल से बाहर आया तो उसके होश उड़ गए। उसने जब अपने अकाउंट का पता लगाया तो पता चला उसके अकाउंट से हजारों रुपए गायब हो गए हैं पीड़ित मोहित का कहना है कि वह जब फर्जी मुकदमे में जेल गया तब उसके खाते में ₹150000 थे और जब बाहर आया तो बैंक खाते ने उसके होश उड़ा दिए।उसने देखा उसके अकाउंट में ₹89000 ही हैं। कारपोरेशन बैंक के पासबुक में साफ दर्शाया गया है कि चार पहिया वाहन में पेट्रोल डलवाया गया है। लखनऊ के दुर्गा मां होटल में खाना खाया गया है। कानपुर रोड पर 10000 ₹15000 की निकासी की गई है। एडिडास का जूता खरीदा गया है। ऑनलाइन शॉपिंग भी की गई है लेकिन पुलिस प्रशासन इसके ऊपर कोई भी कार्यवाही करने के लिए तैयार नहीं है। इसकी सूचना जब उसने विभूति खंड थाने को दी तो थाने में उसको भद्दी गालियां मिली भद्दी गालियों का एक वीडियो सामने आया है और एसएचओ राजीव द्विवेदी का कहना है कि जांच होने के बाद ही मुकदमा दर्ज होगा 4 दिन से पीड़ित थाने के चक्कर लगा रहा है। लेकिन किसी भी प्रकार का मुकदमा दर्ज नहीं हो पाया है। पीड़ित को और उसके परिवार को फर्जी मुकदमे में फंसाने और जान से मारने की धमकी भी दे रहा है। जिसका ऑडियो पीड़ित के पास है। सभी साक्ष्य होने के बाद भी विभूति खंड थाने में नहीं लिखा जा रहा है मुकदमा। पीड़ित हजरतगंज गांधी प्रतिमा पर धरना भी दे चुका है 8.7.2019 को। पीड़ित न्याय के लिए भटक रहा है। अब डीजीपी साहब और एसएसपी कलानिधि नैथानी साहब बताएं यह क्या हो रहा है थाने में।