विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड:AK-47 से 400 राउंड गोलियां चलीं,7 मरे और कातिल कोई नहीं


दिल्ली की सीबीआई अदालत ने बुधवार को बीजेपी के तत्कालीन विधायक और उनके छह साथियों की हत्या मामले में बाहुबली विधायक मुख़्तार अंसारी, उनके सांसद भाई अफजाल अंसारी समेत अन्य सभी आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया।
करीब 14 साल बाद आए इस फैसले से सवाल उठाना लाजमी है कि एके47 से 400 राउंड गोलियां चलीं, सात लोग मारे गए और कातिल कोई भी नहीं निकला।
*इस फैसले से कृष्णानंद राय हत्याकांड का राज भी दफ़न हो गया*


*सभी शवों से निकली थी 67-67 गोलियां*


29 नवंबर 2005 की तारीख गाजीपुर के इतिहास में काला अध्याय की तरह है।
इसी दिन मोहम्मदाबाद से बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय और उनके छह साथियों को गोलियों से छलनी कर दिया गया था।
हमलावरों ने एके-47 से 400 राउंड गोलियां चलाई थीं।
सातों शवों से 67 गोलियां निकाली गई थी।
इस मामले में सात लोगों पर 14 साल तक मुकदमा चला, लेकिन कातिल कोई नहीं निकला।
अब सवाल यह उठ रहा है कि हत्या किसने की या करवाई।