भारत में मंदी के संकेत, पीएम मोदी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ की मंत्रणा*✍🏻

भारत में मंदी के संकेत, पीएम मोदी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ की मंत्रणा*✍🏻


भारत में मंदी का असर दिखाई देने लगा है। उपभोक्ता मांग और निवेश में कमी के कारण देश में मंदी का संकट गहराता जा रहा है। आंकड़ों में देखें तो जून 2019 में सरकार के पूंजीगत व्यय में तकरीबन 30 फीसदी की कमी आयी है। अर्थव्यवस्था को लेकर मंदी के संकेत को देखते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बैठक की। इस बैठक में वित्त मंत्रालय के कई शीर्ष अधिकारी भी शामिल हुए।


बैठक में पीएम मोदी ने निर्मला सीतारमण ने आर्थिक मंदी से निपटने के उपायों पर चर्चा की। हालांकि फिलहाल इससे राहत की उम्मीद नहीं है। निवेश की कमी देश की अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर रही है।


अप्रैल-जून 2019 के बीच कराए गए एक इंडस्ट्रियल आउटलुक सर्वे के मुताबिक देश की 31.6 फीसदी मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां ही अपने ऑर्डर में वृद्धि की उम्मीद कर रहीं थी। वहीं सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के मुताबिक देश में पीपीपी मोड से चल रहे 65 प्रोजेक्ट में से 37 प्रोजेक्ट देरी से चल रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018-19 में जहां 2.7 लाख करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट का ऐलान हुआ।