कर्मचारी की नियुक्ति की तिथि से देनी होगी पेंशन


      प्रयागराज। हाईकोर्ट ने कहा है कि कर्मचारी की पेंशन का निर्धारण करने में उसकी तदर्थ या नियमित नियुक्ति मायने नहीं रखती है। कर्मचारी जिस तिथि से नियुक्त हुआ है, उसी तिथि से उसकी पेंशन का निर्धारण किया जाएगा।
   पहले तदर्थ नियुक्त कर्मचारी के बाद में स्थायी होने पर उसकी पेंशन का निर्धारण स्थायी होने की तिथि से करना गलत है।
     इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस स्थिति को स्पष्ट करते हुए कहा है कि स्थायी पद पर तदर्थ नियुक्त कर्मी के नियमित होने के बाद पेंशन निर्धारण करना गलत है।
   तदर्थ सेवा अवधि नियम 3(8) के तहत क्वालीफाइंग सर्विस मानी जाएगी। कोर्ट ने तदर्थ सेवा अवधि को सेवानिवृत्ति परिलाभों की गणना में न जोड़ने के आदेश को रद्द कर दिया है और तदर्थ अवधि को शामिल करते हुए पेंशन आदि का तीन माह में निर्धारण करने का निर्देश दिया है। 
  यह आदेश न्यायमूर्ति अश्वनी कुमार मिश्र ने डॉ. ओम प्रकाश गुप्ता और अन्य की याचिका पर दिया है।