मछलीशहर में खूनी संघर्ष में अधेड़ की हत्या,* *दस घायल, तीन की हालत नाजुक

 


जौनपुर। जिले के मछलीशहर कोतवाली क्षेत्र के बसढुआं गांव में चकरोड पर से ट्रैक्टर उतारने को लेकर दो पक्षों में जमकर खूनी संघर्ष हुआ। इस दौरान एक अधेड़ की हत्या कर दी गई, जबकि तीन अन्य की हालत नाजुक बनी हुई है, तीनों जिला अस्पताल में जीवन और मृत्यु  से संघर्ष कर रहे हैं। 
    इस खूनी सघर्ष में सात और लोग घायल हैं, जिनका उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मछलीशहर में चल रहा है। तनाव को देखते हुए   गांव में पुलिस तैनात कर दी गई है। 
   बताते हैं कि बसढुआं गांव निवासी मेहीलाल गौतम शुक्रवार सुबह ट्रैक्टर बुलवा आरसीसी लगे चकरोड पर से ट्रैक्टर उतारकर खेत जोतने के लिए लेकर जा रहे थे। उसी गांव के महेंद्र गौतम चकरोड पर से सीधे ट्रैक्टर उतारने को मना कर रहा था। महेंद्र व दूसरे ग्रामीणों के अनुसार मेहीलाल ने चकरोड को काट लिया है, जिससे चकरोड पर से खेत मे ट्रैक्टर उतारने पर चकरोड पर लगी आरसीसी ईंट उखड़ जाएगी। जिससे गांव का रास्ता बाधित हो जाएगा, लेकिन मेहीलाल जबर्दस्ती खेत मे ट्रैक्टर उतारने लगे जिससे विवाद बढ़ गया।
 मेहीलाल की तरफ से जुटे अन्य लोग महेंद्र पक्ष पर टेंगारी, फरसा, कुदाल व लाठी से हमला कर दिया। इसी दौरान मारपीट की सूचना किसी ने कोतवाली पुलिस को दे दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने एम्बुलेंस की सहायता से सभी 10 घायलों को सीएचसी लेकर आई। जहां 45 वर्षीय महेंद्र कुमार,  राजेंद्र, वीरेंद्र, सुरेंद्र की हालत नाजुक देखा जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जिला अस्पताल में महेंद्र कुमार की मौत हो गई। महेंद्र के छोटे भाई 40 वर्षीय राजेन्द्र, 35 वर्षीय सुरेंद्र, 30 वर्षीय  बीरेंद्र  16 वर्षीय, पवन  पुत्र राजेन्द्र, 18 वर्षीया सोनी  पुत्री राजेन्द्र, 22 वर्षीय शनि  पुत्र महेंद्र तथा  दूसरे पक्ष से 55 वर्षीय मेहीलाल पुत्र रामदेव, 35 वर्षीय अजय पुत्र मेहीलाल, 50 वर्षीय चंदा देवी पत्नी मेहीलाल घायल हैं जबकि राजेन्द्र, वीरेंद्र, सुरेंद्र की हालत नाजुक है। पुलिस ने ष्षव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।