चांद पर उतरने को तैयार चंद्रयान-2, जानें- अब तक कैसे-क्या हुआ

चंद्रयान-2 आज यानी शुक्रवार-शनिवार की मध्यरात्रि को चांद की सतह पर लैंडिंग करेगा। लैंडिंग के बाद लैंडर विक्रम से रोवर प्रज्ञान अलग हो जाएगा, जो धरती तक चांद से जुड़े रहस्यों के बारे में जानकारी पहुंचाएगा। इस पल के लिए देश ने करीब 11 साल इंतजार किया है


बेंगलुरु 
चंद्रयान-2 आज यानी शुक्रवार-शनिवार की मध्यरात्रि को चांद की सतह पर लैंडिंग करेगा। इसरो के सामने चुनौती होगी कि चंद्रयान की सॉफ्ट लैंडिंग कराई जाए, जो कि इस मिशन के सफल होने के लिए बेहद अहम है। लैंडिंग के बाद लैंडर विक्रम से रोवर प्रज्ञान अलग हो जाएगा, जो धरती तक चांद से जुड़े रहस्यों के बारे में जानकारी पहुंचाएगा। जानिए, अब तक कैसा रहा यह अभूतपूर्व मिशन और कब-कब क्या हुआ... 


18 सितंबर 2008


तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने चंद्रयान-2 मिशन की मंजूरी दी। इसके बाद के साल मिशन की प्लानिंग और इसकी तैयारी में निकल गए। मिशन में पूरी तरह देसी तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। 

15 जुलाई 2019 
करीब 11 साल के अंतराल के बाद चंद्रयान-2 इस दिन लॉन्चिंग के लिए तैयार हुआ। पूरे देश की नजरें काउंटडाउन पर थीं, मगर ऐन मौके पर एक तकनीकी दिक्कत ने चंद्रयान-2 की उड़ान पर रोक लगा दी। मिशन को टालना पड़ा। 

18 जुलाई 2019 
हालांकि इसरो ने तकनीकी दिक्कत को बेहद कम समय में ही सही कर लिया और 18 जुलाई को घोषणा की कि 22 जुलाई को चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग होगी। 

22 जुलाई 2019 
22 जुलाई को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से चंद्रयान-2 को सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया। 

24 जुलाई 2019 
पृथ्वी की पहली कक्षा में स्थापित करने के लिए प्रक्रिया को अंजाम दिया गया। 

26 जुलाई 2019 
पृथ्वी की दूसरी कक्षा में स्थापित करने के लिए प्रक्रिया को अंजाम दिया गया। 

28 जुलाई 2019 
पृथ्वी की तीसरी कक्षा में स्थापित करने के लिए प्रक्रिया को अंजाम दिया गया। 

3 अगस्त 2019 
इसरो ने चंद्रयान-2 से ली गईं पृथ्वी की पहली तस्वीरों को लॉन्च किया। 

6 अगस्त 2019 
6 अगस्त को चंद्रयान-2 को पृथ्वी की चौथी और अंतिम कक्षा में स्थापित करने के लिए प्रक्रिया को अंजाम दिया गया। 

14 अगस्त 2019 
करीब 23 दिन तक धरती की कक्षा में चक्कर लगाने के बाद स्पेसक्राफ्ट को चांद की कक्षा में भेजने के लिए तैयार किया गया। 

20 अगस्त 2019 
चंद्रयान-2 सफलतापूर्वक चांद की कक्षा में स्थापित हो गया। 

22 अगस्त 2019 
इसरो ने चंद्रयान-2 से ली गईं चांद की चुनिंदा तस्वीरों को रिलीज किया। 

3 सितंबर 2019 
महज चार सेकंड में चंद्रयान-2 चांद की पहली कक्षा को पार कर गया। 

4 सितंबर 2019 
9 सेकंड में चंद्रयान-2 चांद की दूसरी कक्षा को भी पार कर गया। 

7 सितंबर 2019 
7 सितंबर ही वह तारीख है, जिसका पूरा देश इंतजार कर रहा था और आज रात के 12 बजते ही यह इंतजार लगभग खत्म हो जाएगा। देर रात करीब 1:30 बजे से 2:30 बजे के बीच चंद्रयान चांद की सतह पर उतरेगा। इसके बाद सुबह 5:30 से 6:30 बजे के बीच लैंडर विक्रम में से रोवर प्रज्ञान बाहर निकलेगा।