मातृ वंदना योजना'' के लाभार्थियों की संख्या एक करोड़ के पार

 


नई दिल्ली: गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओें के कल्याण से जुड़ी 'प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना' के लाभार्थियों की संख्या एक करोड़ से अधिक हो गई है।


महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक इस योजना के तहत कुल 4,000 करोड़ से अधिक की राशि लाभार्थियों को वितरित की गई है। यह प्रत्‍यक्ष लाभ अंतरण(डीबीटी) योजना है, जिसके अंतर्गत गर्भवती महिलाओं को नकद लाभ सीधे उनके बैंक खाते में भेजा जाता है ताकि वे पौष्‍टिकता आवश्‍यकताओं की पूर्ति कर सकें। 


यह योजना एक जनवरी, 2017 से लागू की गई है। इस योजना के अंतर्गत उन गर्भवती महिलाओं और स्‍तनपान कराने वाली माताओं को तीन किस्‍तों में पांच हजार रुपए का नकद लाभ प्राप्‍त होता है, जिन्‍होंने प्रसव का प्रारंभिक पंजीकरण कराया है, प्रसूति जांच कराई है, बच्‍चे के जन्‍म का पंजीकरण कराया है और परिवार के पहले बच्‍चे के लिए टीकाकरण का पहला चक्र पूरा किया है।


   पात्र लाभार्थियों को जननी सुरक्षा योजना(जेएसवाई) के अन्‍तर्गत नकद प्रोत्‍साहन भी दिया जाता है। इस तरह औसत रूप में एक महिला को 6,000 रुपए मिलते हैं। गौरतलब है कि ओडि़शा और तेलंगाना दो ऐसे राज्य हैं जहां अब तक यह योजना लागू नहीं हो सकी है।