लुटेरी दुल्हन गिरफ़्तार, सुहागरात के दिन गहने-नकदी लेकर हुई थी फ़रार

 



*आगरा*। सुहागरात वाले दिन ही परिवार को खाने में नशीला पदार्थ खिलाकर उन्हें बेहोश करके घर से कीमती सामान और आभूषण लेकर फरार होने वाली लुटेरी दुल्हन को आखिरकार पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। लुटेरी दुल्हन को गिरफ्तार करने की सफलता रकाबगंज थाना पुलिस को मिली है। क्षेत्रीय पुलिस ने आरोपी लुटेरी दुल्हन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर जेल भेज दिया है और उसके फरार साथियों की गिरफ्तारी में जुट गई है।


क्षेत्रीय पुलिस ने बताया कि 6 अक्टूबर को पीड़ित सरवन सिंह पुत्र रमेश चंद निवासी ने अपनी नवविवाहित पत्नी प्रीति के खिलाफ मुकदमा लिखाया था कि उसकी पत्नी प्रीति खाने में नशीला पदार्थ मिलाकर सभी को बेहोश करके अपने साथियों के साथ घर का सारा कीमती सामान लेकर फरार हो गई है। मुकदमा लिखे जाने के बाद से ही इस लुटेरी दुल्हन की धरपकड़ के प्रयास चल रहे थे। इसी बीच पुलिस को सूचना मिली कि रामलीला ग्राउंड से एक महिला को पकड़ा गया है। पुलिस के पहुंचने पर और पूछताछ करने पर पता चला कि यह महिला लुटेरी दुल्हन है। पुलिस ने तुरंत उसे अपने हिरासत में लिया और उससे पूछताछ कर उसके साथियों की धरपकड़ के प्रयास में जुट गई।


क्षेत्रीय पुलिस ने बताया कि लुटेरी दुल्हन प्रीति से पूछताछ में पता चला है कि उसकी शादी 9 वर्ष पहले टेड़ी बगिया में हुई थी लेकिन उसका पति कोई रोजगार नहीं करता था। इसीलिए पति को छोड़कर और अपनी जरूरतें पूरा करने के लिए अलग रहने लगी। इसी बीच उसकी मुलाकात देवकीनंदन नाम के युवक से हुई जिसने पैसों का लालच देकर झूठी शादी करा कर लोगों को लूटने के अपराध में शामिल किया। देवकीनंदन ने ही उसकी झूठी शादी सरवन के साथ शादी कराई और सुहागरात वाले दिन ही खाने में नशीला पदार्थ मिलाकर सभी को बेहोश कर दिया और घर का कीमती सामान लेकर फरार हो गए।


फिलहाल पुलिस ने लुटेरी दुल्हन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का जेल भेज दिया है और इस पूरी वारदात के मुख्य आरोपी देवकीनंदन और प्रमोद, वर्षा और शालू की धरपकड़ में जुट गई है जो इस वारदात में शामिल थे।