सभी जिलाधिकारी सुनिश्चित करे कि खेतो में अपशिष्ट न जलाए जाय -sc

१-सभी उपजिलाधिकारी, तहसीलदार , क्षेत्राधिकारी थाना अध्यक्ष ,खंड विकास अधिकारी  नायब तहसीलदार,  राजस्व निरीक्षक गण,लेखपाल, प्रधान ,ग्राम पंचायत सचिव, खंड विकास अधिकारी एडीओ पंचायत ध्यान दें कि माननीय उच्चतम न्यायालय ने खेतों में फसलों के अवशिष्ट जलाने को लेकर 4.11. 19 कोबहुत ही सख्त निर्देश दिए और यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कहीं पर भी कोई भी व्यक्ति खेतों में फसलो के अवशिष्ट ना जलाएं ।


२-अगर कहीं भी किसी भी गांव में या कस्बे में फसलों के अवशिष्ट या कूड़ा जलाने की सूचना प्राप्त होती है तो उस गांव के प्रधान थानेदार लेखपाल पंचायत सचिव व सभी अधिकारी जिम्मेदार होंगे।


 ३-प्रधान प्रत्येक दिन निगरानी गांव में रखेगा कि उसके गांव में कोई भी किसान  अपने खेतों में फसलों के अवशिष्ट ना जलाएं। 
४-तहसील क्षेत्र के लिए तहसीलदार और उप जिला अधिकारी जिम्मेदार होंगे वह अपने खंड विकास अधिकारियों व क्षेत्राधिकारी पुलिस से आज ही विचार विमर्श करके लेखपालों और गांव पंचायत सचिवों बीट्स पाई और संबंधित दरोगा को गांव में कल से ही  खुली बैठक करा करके इस बात का प्रचार प्रसार करें और प्रधान को लिखित रूप में निर्देशित कर दें कि वह प्रत्येक दिन अपने गांव में निगरानी करेंगे।


५-इसी प्रकार नगर पालिका परिषद नगर पंचायतों में भी अधिशासी अधिकारी गण अध्यक्ष नगर पालिका व नगर पंचायत व्यापक प्रचार पूरे शहर में करा देऔर डुग्गी पिटवा दे तथा सफाई नायक सफाई निरीक्षक व सफाई कर्मचारियों को भी निर्देशित कर दें कि कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार के अवशिष्ट नहीं जलाएगा जिससे प्रदूषण हो और ना ही कूड़ा जलाया जाएगा। स्थानीय निकाय क्षेत्रों में अधिशासी अधिकारी और अध्यक्ष जिम्मेदार है कृपया प्रतिदिन निगरानी करें।


६- जिला कृषि अधिकारी भी अपने किसान सहायकों के माध्यम से सभी गांव के किसानों को माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्देशों से अवगत करा दें इसमें किसी प्रकार की किसी स्तर पर लापरवाही  न हो।


 ७-उप जिलाधिकारी तहसीलदार व क्षेत्राधिकारी तीनों आज वा कल थाना स्तर पर बीट सिपाही दरोगा पंचायत सचिव लेखपाल की संयुक्त रूप से बैठक करके प्रत्येक गांव के लिए टीम गठित कर दें जिसमें उस गांव का उपनिरीक्षक उस गांव का पंचायत सचिव उस गांव का लेखपाल वह उस गांव के वीट सिपाही हो ,वे गांव में जाकर खुली बैठक करके गांव में डुगडुगी पिटवा करके ऐलान कर दे कि कोई भी खेतों में अवशिष्ट ना जलाएं और अगर कोई जलाएगा तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार की जाएगी।


     प्रधान को भी वही लिखित में हिदायत दे दी जाए कि वह प्रत्येक दिन निगरानी करें और प्रत्येक घर के लोगों को माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्देशों से अवगत करा दिया जाए और प्रधान सुनिश्चित कराया कि गांव में कोई भी खेतों में फसलों के अवशिष्ट ना जलाएं।