सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट के माध्यम से सामाजिक सौहार्द ख़राब करने का समाज-विरोधी इरादा रखने वाले *1 युवक और इस नापाक साज़िश में शामिल उसके 2 साथियों को हिरासत

*जनपद शामली, थाना कैराना*


सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट के माध्यम से सामाजिक सौहार्द ख़राब करने का समाज-विरोधी इरादा रखने वाले *1 युवक और इस नापाक साज़िश में शामिल उसके 2 साथियों को हिरासत में ले लिया गया है। भारतीय दंड विधान की गंभीर धाराओं में मुकद्मा लिखकर उन पर कठोर वैधानिक कार्यवाही अमल में लाई जा रही है।*


कुछ लोगों का कहना है कि, “दु:खद यह है कि कुछ लोगों के द्वारा ऐसे समाज-विरोधी व्यक्तियों की पैरवी में भी पुलिस अधीक्षक को फ़ोन किया गया। जिस पर, *फ़ोन करने वाले सभी लोगों को एसपी शामली अजय कुमार ने कड़ी फटकार के साथ भविष्य में ऐसा कृत्य कदापि न करने की नसीहत दी है।*”


हमेशा की तरह बहुत ही बेबाक़ तरीक़े से एसपी शामली अजय कुमार ने कहा कि “अगर किसी को कठोर वैधानिक कार्यवाही से बचाना है तो इस तरह के *गुमराह युवकों को पहले ही समझा लिया जाए,* सचेत किया जाए। साथ ही, यह सदैव याद रखें कि *सोशल मीडिया आप और आपके पूरे परिवार के मौजूदा सुख-चैन और भविष्य का सर्वनाश भी करा सकता है; अत: इसे अतिशय सावधानी से प्रयोग में लाने की नसीहत दी जाती है।*”


साथ ही, शामली एसपी अजय कुमार, आई पी एस ने यह भी कहा कि “एक बात और भी स्पष्ट कर देना ज़रूरी है कि शामली जनपद के सौहार्दपूर्ण सामाजिक ताने-बाने, आपसी भाई-चारे, मुहब्बत और मेल-मिलाप के माहौल को *ज़रा-सा भी नुक़सान* पहुँचाने के *नापाक इरादे से भड़काऊ कमेण्ट, पोस्ट या बयानबाज़ी* करने वाले व्यक्ति एवं इस प्रकार की *साज़िश में शामिल उसके सभी साथियों* को किसी भी सूरत में क़तई भी बख़्शा नहीं जाएगा।”


*बकौल शामली एसपी “शामली पुलिस का यह दृढ़-संकल्प है कि ऐसे गुमराह व बदनीयत लोगों को क़ानून के कटघरे में ज़रूर खड़ा किया जाएगा। किसी की भी पैरवी नहीं मानी जाएगी; अलबत्ता, पैरवी करने वाले व्यक्तियों को समाज-विरोधी साज़िश में शामिल* मान लेने पर भी विचार किया जाएगा।”